Best Indian Porn Sites

शादी में आई भाभी ने मेरे लंड पर हलचल

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Feb 28, 2018.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    139,019
    Likes Received:
    2,215
    http://raredesi.com हैल्लो दोस्तों, मुझे antarvasna उम्मीद है आप सब kamukta ठीक होगें और दिन रात जमकर चुदाई कर रहे होंगे, मैं हिमांशु आज आप सबके लिए एक मस्त सेक्स कहानी लेकर आया हूँ जिसे पढ़कर आप एक बार तो ज़रूर मूठ मारेगें तो चलिए फिर जल्दी से कहानी को शुरू करते है।

    दोस्तों मैं बिहार का रहने वाला हूँ मेरी हाईट 5.7 इंच है मेरी बॉडी काफ़ी अच्छी है और मैं एक जवान हैण्डसम और गुड लुकिंग वाला लड़का हूँ। मेरी उम्र 22 साल है और मैं बी.टेक फाइनल ईयर में हूँ मुझे शुरू से ही आंटी और भाभी बहुत ही पसंद है मुझे लड़किया इतनी पसंद नहीं आती जितनी मुझे भाभी और औरते पसंद आती है। मेरा लंड 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है जो कोई भी मेरे इस लंड को देखती है वो मेरे लंड को देखती ही रहती है मेरा लंड जिस भाभी और आंटी ने देखा है वो इसे अपने आप अपने मुहँ में लेकर चूसने लग जाती है सच बताऊँ तो मुझे लंड चुसवाने में बड़ा मज़ा आता है आज तक मैंने 4 आंटी और 5 भाभीयां चोदी है और अक्सर उन्हें चोदता रहता हूँ जैसा मुझे मौका मिलता है तो आज की कहानी जिस भाभी की चुदाई की है वो भाभी आज तक की सब से हॉट और सेक्सी भाभी है उसका नाम पूनम है और आज मैं आपको उसकी चुदाई की कहानी ही बताने जा रहा हूँ तो चलिए शुरू करते है।

    ये बात आज से 5 महीने पहले की है जब मैं एक शादी में गया था मैं अच्छे से तैयार होकर वहां पर चला गया रात की शादी थी इसलिए बहुत ही अच्छा माहोल बना हुआ था मैं साइड में खड़ा होकर अपना काम कर रहा था मैं जवान और सेक्सी लड़कियो और भाभी की तलाश में लगा हुआ था ये मेरा ऐसा काम था जिससे मैं कभी बोर नहीं होता था मैं सबको देख रहा था और तभी मेरी नज़र एक कमाल की खूबसूरत हसीना पर पड़ी जिसे दूर से देखने में ही ऐसा लग रहा था मानो वो एक परी हो, इतनी खूबसूरत औरत मैंने आज तक अपनी जिंदगी में नहीं देखी थी। जब मेरी नज़र उस पर पड़ी तो मैं उसको ही देखता रह गया उसका रंग एकदम गोरा जैसे दूध हो, उसकी हाइट करीब 5.3 इंच होगी और उसकी कमर एक पतली सी थी जब वो मेरे पास से गुज़री तभी मैंने उसका फिगर का अंदाज़ा लगा लिया उसका फिगर 36-28-40 होगा, सारे मर्द सिर्फ़ उसे ही देख रहे थे पीले कलर की साड़ी में क्या कयामत लग रही थी वो, मैं उसको ही देख रहा था और उसके बारे में ही सोच रहा था अब मैं उसके पीछे पीछे जा रहा था ताकि किसी बहाने से उसके इतने मस्त जिस्म को बस एक बार किसी भी तरह छु लूँ पर ऐसा नहीं हो सकता था मैं उसे एक बार भी टच नहीं कर पाया मैं उसके नुकीले बूब्स को देखकर पागल सा हो गया। और उसकी बाहर निकलती गांड को देखकर ऐसा मन कर रहा था की मैं उसकी गांड को अपने हाथों में पकड़ लूँ और अपने दोनों हाथों से अच्छे से मसल दूँ।

    मैं अपने मन में भगवान से बस ये ही दुआ कर रहा था की किसी भी तरह बस मुझे एक बार ये चोदने को मिल जाए और दोस्तों उसी समय शायद भगवान ने मेरी सुन ली थी मेरे पास मेरा भाई उस औरत के साथ, उसने कहा हिमांशु ये हमारी भाभी है क्या तुम प्लीज़ इन्हें इनके घर तक छोड़कर आ सकते हो इनका घर यहीं पास में ही है मैं एकदम बोला हाँ भाई तुम फिकर मत करो मैं इन्हें घर पर छोड़कर आता हूँ फिर मैं भाभी को अपनी कार तक ले आया और उसके लिए खुद मैंने कार का दरवाज़ा खोल दिया जब वो अंदर बैठ गई तो मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया फिर मैं आगे कार स्टार्ट करके उसके बताए हुए पते पर चलने लग गया। भाभी मुझे रास्ता बता रही थी कुछ ही देर बाद हम उसके फ्लेट पर आ गये, भाभी का फ्लेट तीसरी मंजिल पर था भाभी ने मुझे ऊपर आने को कहा मैं भी चुपचाप कार साइड में लगाकर भाभी के पीछे पीछे चलने लग गया भाभी की गांड के मटकते हुए मोटे मोटे कूल्हे मुझे पागल कर रहे थे, मेरा मन कर रहा था की अभी के अभी भाभी के दोनों कूल्हों को अपने हाथों में लेकर मसल दूँ फिर मैं भाभी के घर के अंदर आ गया, अंदर आते ही भाभी ने मुझे सोफे पर बैठा दिया तभी मैं बोला भाभी वैसे देखा जाए तो भैया की किस्मत काफ़ी अच्छी है भाभी बोली क्यों ऐसा क्या है? मैं बोला क्यों क्या, भाभी उन्हें आप जैसी सूपर सेक्सी और इतनी सुंदर वाइफ जो मिली है फिर भाभी ने कहा क्या तुम सच कह रहे हो? हाँ भाभी मैं एकदम सच कह रहा हूँ मैंने आप जैसी औरत अभी तक अपनी जिंदगी में नहीं देखी है सच में आपकी साड़ी आपका रंग आपकी चाल आपका बोलना आपका चलना, सब कुछ सबसे अलग और सबसे सेक्सी है सच कहूँ तो भाभी मैंने जब से आपको शादी में देखा है तब से मैं आपको ही देख रहा हूँ। आपने तो मुझे अपना दीवाना बना लिया है।

    भाभी :- अच्छा जी, अगर ऐसी बात है तो बताओ मेरे जिस्म में तुम्हें क्या अच्छा लगता है?

    मैं :- भाभी वैसे तो आप ऊपर से नीचे तक पूरी की पूरी बहुत ही सेक्सी हो, और आपके जिस्म के तो क्या कहने, पर अगर आप कुछ खास चीज़ पूछना चाहती हो तो मुझे आपके दोनों कूल्हे और बूब्स सबसे ख़तरनाक लगते।

    मेरी ये बात सुनकर वो शरमा गई और बोली तुम तो बहुत ही शैतान हो ये कहकर भाभी खड़ी हुई और अंदर अपने कमरे में चली गई जब वो जा रही थी तब मेरी नज़र उसकी गांड पर थी सच में भाभी अपने दोनों कूल्हों को बड़े ही मस्त तरीके से मटकाती हुई चल रही थी मैं तो बस पागल ही होता जा रहा था मुझे ऐसा लग रहा था की मानो भाभी मुझे अपना गुलाम बना रही हो कुछ ही देर बाद भाभी पिंक कलर का गाउन डालकर बाहर आई और सीधा किचन में चली गई सच में अब तो भाभी पहले से भी ज़्यादा कयामत लग रही थी उसकी पिंक कलर के गाउन में उसके बूब्स और कूल्हे दोनों बाहर निकल रहे थे मुझसे अब और नहीं रुका जा रहा था मैं उठा और सीधा किचन में घुस गया भाभी अंदर ड्रिंक बना रही थी, मैं उनके पीछे जाकर खड़ा हो गया भाभी के जिस्म से आती हुई खुशबू मुझे अपना दीवाना बना रही थी शायद भाभी मेरी बेचेनी महसूस कर रही थी और उन्हें अच्छे से पता था की मुझे क्या चाहिये था तभी भाभी बोली, देवर जी क्या बात है आज आपके सामने दुनिया की सबसे सुंदर और सेक्सी औरत खड़ी और आप कुछ नहीं कर रहे हो, ये सुनते ही मेरे अंदर हिम्मत आ गई और मैंने अपना एक हाथ भाभी की गांड पर रख दिया और उनके कूल्हे को मसलने लग गया सच कहूँ तो दोस्तों मुझे उनके कूल्हे एक बूब्स की तरह लग रहे थे क्योकि कूल्हे बूब्स की तरह मुलायम थे जिसे छुने और मसलने में भी बहुत मज़ा आ रहा था तभी भाभी ने मुझे पीछे मूडकर आँख मारी और मुझे सेक्सी सी एक स्माइल कर दी।

    भाभी की इस अदा ने मुझे पागल कर दिया था मैं बोला भाभी क्या आपको अपनी बाहों में भर सकता हूँ मेरे ये कहने की देर थी भाभी झट से पीछे मूडी और मुझे अपनी बाहों में भरकर किस करने लग गई मैं भी भाभी के होंठो को अपने होंठो में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूस रहा था मेरा लंड अब पेंट फाड़ने वाला हो गया था भाभी का हाथ मेरे लंड पर अब अपने आप ही आ गया था उन्होंने बाहर से मेरे लंड को मसलना शुरू कर दिया था। कुछ ही देर बाद भाभी ने मेरे लंड को पकड़कर बाहर निकाल दिया था जिससे अब वो उनके हाथों में था भाभी ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड की मूठ मार रही थी भाभी मेरे लंड को देखकर बोली अरे ये लंड तो बहुत ही कमाल का है सच कहूँ तो मैंने आज तक इतना गोरा और मोटा, लंबा लंड नहीं देखा, हिमांशु ये लंड किसी भी औरत को तुम्हारा गुलाम बना सकता है जैसे आज मैं तुम्हारे लंड की गुलाम बन चुकी हूँ। फिर भाभी नीचे बैठ गई और मेरी पेंट और अंडरवियर उतारकर उन्होंने मुझे नीचे से पूरा नंगा कर दिया अब उन्होंने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और धीरे धीरे उस पर अपनी जीभ फैरने लग गई मैं पागल हो रहा था क्यूंकि आज तक मेरे लंड से ऐसा खेल किसी ने नहीं खेला था वो अपनी जीभ को मेरे पूरे लंड पर फेर रही थी धीरे धीरे वो अपनी जीभ पर मेरे लंड को रखकर अपने मुहँ में ले रही थी फिर वो मेरे लंड को एक लोलीपोप की तरह चूस रही थी जिसे देखकर मैं पागल होने लग गया था। फिर भाभी मेरे लंड को कभी पूरा अपने मुहँ में डालती तो कभी पूरा बाहर निकालकर उसे अपनी जीभ से चाटने लग जाती उनकी हर अदा मुझे पागल कर रही थी वो मेरे लंड को अपने गले के अंदर तक ले रही थी जिससे मेरा लंड उसकी थूक से पूरी तरह से गीला हो रहा था। दोस्तों यह सेक्स स्टोरी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

    फिर वो मेरे लंड को 5 मिनट तक अच्छे से चूसने के बाद वो अंदर चली गई उसकी गांड मुझे पागल कर रही थी जाते जाते उसने अपना गाउन उतार दिया अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी जिससे वो अब हद से ज़्यादा सेक्सी लग रही थी मुझे अब और कंट्रोल नहीं हो रहा था, इसलिए मैं उसके पीछे भागकर चला गया भाभी अपने कमरे में थी मैंने अंदर जाते ही उसे पीछे से पकड़ लिया अब मेरा लंड उसकी गांड में लग रहा था मैंने ऐसे ही भाभी को दीवार पर लगा लिया और उसके दोनों हाथ दीवार पर लगाकर उसे तोड़ा सा नीचे झुका दिया था जैसे ही मेरे लिए एकदम सही पोजीशन बनी मैंने तभी नीचे से अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और एक जोरदार धक्के से अपना पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया लंड जाते ही भाभी को बहुत दर्द हुआ जिससे वो पूरी तरह से कांप उठी फिर मैं ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत को चोदने लग गया भाभी पूरी तरह से गरम हो गई थी उसकी चूत का पानी निकल चुका था वो ज़ोर ज़ोर से अपनी गांड को हिलाकर मुझे अपनी चूत दे रही थी करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने उसे कहा की भाभी मेरे लंड का पानी निकलने वाला है ये सुनते ही भाभी ने मेरे लंड को अपनी चूत से बाहर निकाल लिया और वो नीचे बैठकर मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गई, कुछ ही देर बाद मेरे लंड ने अपना बहुत सारा पानी उनके मुहँ में ही निकाल दिया जिससे भाभी का मुहँ पूरा भर गया भाभी मेरे लंड का सारा पानी पी गई, उसके बाद हम दोनों एक साथ बाथरूम में नहाए और एक बार बाथरूम में चुदाई करी उस रात के बाद जब भी हम दोनों को ज़रूरत होती तभी मैं भाभी के घर आकर उसकी प्यास बुझा देता था। हम दोनों एक दूसरे से काफ़ी खुश थे और अब तक मैं भाभी को 25 बार से ज़्यादा चोद चुका हूँ।

    धन्यवाद कामलीला डॉट कॉम के प्यारे पाठकों !!
     
Loading...

Share This Page