मौसी की लड़की ने लंड पकड़कर चोदना सिखाया

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Jan 9, 2018.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    136,908
    Likes Received:
    2,133
    http://raredesi.com कभी मौका नही antarvasna मिला कि अपने बारे में लिखूं। मेरी उम्र अभी 29 साल है, मै up का रहने वाला हु। आपको अपनी real details नही बता सकता but मेरी कही हर बात सत्य है। थोड़ी झिझक हो रही लिखने में परन्तु कुछ भी ऐसा नही लिखूंगा जी की आपको लगे कि मैं fantasy लिख रहा।
    कुछ चीज़ों को आप सब्दो में नही पीरो सकते, वो अनमोल होती है। उसी प्रकार कुछ घटनाओं को आप महसूस करते हैं। उससे उसी प्रकार बताना कठिन होता है। फिर भी मैं अपनी कोशिश करूंगा कि ठीक उसी तरह रखु जैसा घटित हुआ।

    यह 5 साल पुरानी बातें हैं, तब मैं सेक्स के लिए काफी जिज्ञासू हुआ करता था, अभी भी हु, लेकिन अभी काफी experienced हु, तभी किसी भी चूत का रस हासिल नही हुआ था। चूत के करीब आ कर भी कभी मुह न लगा पाया था।

    इस रूपांतरण में केवल मेरे नाम नकली होंगे, बांकी के किरदार के नाम में चेंज नही करूँगा, क्योंकि वैसे भी किसी को छानबीन नही करना होगा।
    मैं तभी engineering कर रहा था, और मेरी gf facebook से बनी थी। तोह मैं उससे मिलने जय करता था delhi। मेरी gf थी बहुत चालू किसम की ख़र्च करवाती थी, पर चूत दिया नही कभी मारने को। हमेशा कहती जो करना है कर लो, सेक्स शादी के बाद, काफी conservative टाइप थी। तोह 1 साल में हमारा ब्रेकअप हो गया। मैन फर्स्ट टाइम उससे ही किश किया था, और उसके जिस्म को भी महसयस किया था, उसका figure 34-27-32 था, मध्यम built थी, देखने मे सुंदर बूत height 5'3″ ही था। मेरी height 6'1″ है, और में दिखने में अच्छा भी हु। मैंने magazine के लिए शूट भी किया है। उस समय में banglore से इंजीनियरिंग कर रहा था। स्कूल टाइम से ही में पोर्न देखता आया हु, और कभी कभी नोवेल्स भी पढ़ता था। दिलचस्पी मेरी सुरु से थी कुछ नया एक्स्प्लोर करने की,मैं सुरु से ही introvert टाइप रहा हु। अपने ही धुन में रहता हूं। कोई मुझे देख कर नही कह सकता था कि मैं सेक्स का इतना भूखा क्यों हु।
    मैं जब भी किसी लड़की को देखता था उसको imagine करता था की उसका body अंडर से कैसे दिखता होगा, उसका figure क्या होगा।
    सब कुछ मेरे दिमाग मे चलता रहता था।
    मैं मेरे फैमिली में इकलौता था, मेरी एक छोटी बहन थी जो कि 11थ में थी, और मेरे माँ पापा। एक छोटी सी फैमिली, हुम् दिल्ली में रहते थे। क्योंकि पाप का business दिल्ली में ही था। स्कूलिंग मेरी उप में हुई थी। तभी हम लोग वही रहते थे। दिल्ली शिफ्ट हुए हमें 2 साल ही हुआ था। क्योंकि पापा की अपने भाइयों से नही बनती थी। काफी लड़ाई हुई उसके बाद पापा अपनी प्रॉपर्टी बेच कर दिल्ली शिफ्ट हो गए। और tiles का retail शॉप खोल लिया। दिल्ली में अभी रेंट पर रह रहे हैं, अपना मकान नोएडा में लिया है, वो भी कम्पलीट नही हुआ।सुरुवात हुई तब जब मैं मामा की शादी में गया था अपने नानी के घर, जो कि एक गांव है up में।
    मेरे नाना 78 के हैं। नानी 2002 में ही गुजर गए थे। मेरे मामा भी एक मात्र male child थे नाना जी के, और मेरी mama के 3 बहन थी, सबसे बड़ी मेरी माँ, उसके बाद sunita मौसी, उम्र- 38, उसके बाद mama उम्र- 34, और सबसे छोटी मौसी, vidhu मौसी, उम्र- 31.
    आपको मेरी फैमिली का तोह पता ही है, मेरी बहन kli जो कि 11थ में पढ़ रही है। और मैं engineering फाइनल year में हु।
    मामा की शादी में मैं फर्स्ट year में था।
    Sunita मौसी के 2 बेटी और एक बेटा, बड़ी बेटी, madhu- जो कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में आर्ट्स second ईयर में थी। छोटी बेटी komal, 11थ में थी kli की हमउम्र। उनका सबसे छोटा बेटा 9थ में पड़ता था।
    छोटी मौसी vidhu का एक ही लड़का था जो कि अभी 4 साल का था।

    मैं काफी एक्ससिटेड था, की वहां सब से मुलाकात होगी बहुत दिनों बाद।
    हम सबसे पहले वह पहुचे थे, अभी कोई भी मौसी नही आई थी।
    गांव में सभी का घर दूर दूर था। नाना जी का घर अपने खेत मे ही था। चारो ओर हरयाली देख कर आनन्द आ रहा था।sunita मौसी का call आया वो कुकग ही देर में पहुचने वाली थी। गांव की आवादी कम थी, क्योंकि गांव पहाड़ी पर था। हमे दिल्ली से इस जगह आने में 8 hour लग गए। अपने कार से आने से प्रॉब्लम नही हुआ था, वहाँ पहुचते ही सारी थकान चली गयी। हमलोग vidhi मौसी के शादी में ही यह आये थे। में तभी 10थ में पढ़ता था, और सुनीता मौसी के बचे भी छोटे थे।
    Vidhi मौसी सुरु से ही बहुत चंचल थी। वो बस 12थ तक ही पढ़ी थी, गांव में कॉलेज नही होने के कारण नाना जी ने नही पढ़ाया, vidhi मौसी काफी सुंदर थी, गोरी, बड़ी आंखे, नुकीले नाक, लिप्स गुलाबी, लंबे बाल, और जैसा मैंने पहले ही कहा था, में figure देख के imagine करता था। पहली बार मौसी को देख कर में ब्लश करने लगा था, में mausi की शादी में नही जाना चाहता था, माँ मुझे जबरदस्ती ले गयी थी। मौसी को डेल्हा कर मेरा पछतावा excitment में बदल गया था।
    मौसी का सबसे अच्छा फीचर उनका निचला भाग था, लंबी टंगे, चौड़े नितम्ब, बाहर के तरफ निकली हुई, गोलाकार छाती, और वो long skirt, और टॉप पहनतीं थी। हुम् लोग ब्राह्मण फैमिली से हैं तोह लड़की के शादी में 8 दिन पहले ही आना पड़ा था, पूजा होता है और कुछ विध भी।
    Vidhi मौसी के बाद में ही था जो उनसे बात करता था। वो देखने मे बड़ी थी तभी 26 की होंगी और हरकते स्कूल कीबच्चे जैसी ही थी।
    मेरे साथ वो गेम्स खेला करती थी। मुझे अच्छा लगता था विधि मौसी के पास रहना, क्योंकि कभी कभी कहले के क्रम में उनका skirt ऊपर हो जाता और मुझे उनके चिकनी जंगो के दरसन हो जाते थे। कई बार तोह मुझे उनके panty की भी दरसन हो गयी थी। मेरा लंड खड़ा ही रहता था जब मैं उनके सामने रहता था। उनको इस बात का पता भी नही था कि मैं क्या सोच रहा हु। मेरा मन उनके बदन को महसूस करने का कर रहा था।
    मौसी की शादी, मेरे मामा जी के दोस्त के भैया से तय हुई थी, जो कि दारोगा थे, मौसी से करीबन 9 साल बड़े थे। असल मे मौसी के पीछे बहुत सारे लड़के लगे हुए थे, इस चक्कर मे mama जी का लड़ाई भी हुआ था।
    मौसी इसलिए भी पढ़ाई नही कर पाई थी। क्योंकि लड़के उनके पीछे लगे रहते थे। मेरे नानी घर मे सब की height अछि थी। mama की हाइट 6'2″, और मौसी की 5'8″. सैयद इसलिए भी मैं लंबा था।
    मौसी अपने मोबाइल में काफी पिक्चर सेव कर के रखी हुई थी, उनकी favourite actress थी madhuri दिक्सित एंड ashwariya राय।
    जायदातर इन दोनों की ही पिक्चर थी। मैने विधि मौसी से कहा कि तुम actress होती तोह सबसे मस्त तुम ही होती। इस बात पर वो खुश हो गयी। मुझे भी काफी सौख है pics click कराने का, इस बात पर मैंने उनसे पूछा, विधि मौसी मेरे पास कैमरा है, आप चाहो तोह क्लिक कर सकते हैं, उसने कहा ठीक है, मैं तैयार होती हु, मैंने कहा हेरोइन जैसा छोटी ड्रेस पहन लो, वो बोली कोई देखेगेगा तोह क्या सोचेगा। मैन कहा अरे मौसी यह कौन आएगा, तुम पीछे बगीचे वाले नानाजी के कमरे में क्लिक करेंगे। दिन में कोई आएगा भी नही।
    Vidhi मौसी ने कहा, पर मेरे पर तोह कोई भी ऐसी ड्रेस नही, मैं अपने निकर ले लेता हूं, तुम पहन लेना, टॉप तोह है ही, नही तोह बनयान पहन लेना, मन ले लेता हूं। मैंने जल्दी में अपना ब्लैक निक्कर ले लिया जो कि बॉक्सर था, और नई वाइट बनयान।
    और नाना जी के कमसे तक पहुच गया, वह मौसी पहले से थी। मौसी यह पहनेगी यह सोच कर ही मेरा लुंड पानी छोड़ने लगा था।
    मौसी एक लांग स्कर्ट में थी, जो कि रेड कलर का था, और वाइट टॉप, जो कि उनके पेट को ढके हुए था।
    मैन एक दो क्लिक उसी कपड़ो में लिया, मौसी काफी सुंदर लग रही थी, कैमरे के क्लिक में, मेरा सोनी का कैमरा था, जो पापा ने लिया था,
    मौसी अपने skirt को कमर में फोल्ड कर के उसको अपने घुटने से ऊपर कर लिया और टॉप को अपने बूब्स के पास ऊपर कर बांड लिया पीछे अपने ब्रा के हुक में।
    मैं विधि मौसी का गोरा पेट पहली बार देख रहा था, उसमे छोटी सी नाभि मेरे लुंड को परेशान कर रही थी, क्या बदन था, में मन ही मन सोच रहा था, उनकी जिससे शादी हो रही है, वो तोह पागल ही हो जाएगा इनको पा कर।
    मेरा लौड़ा सोच कर ही उफान मार रहा था। लंड पर हाथ रखता तोह मौसी देख लेती, इसलिए मैंने 3-4 फ़ोटो क्लिक की और उनको घूमने को कहा। वो पीछे घुमि, तोह मौसी के गांड देख कर मेरा लंड पानी छोड़ने लगा। मैन अपना लैंड बाहर निकल के सहलाया और फिर उसको अंदर डाल लिया। मैन कहा मौसी थोड़ा झुक जाओ। उससे मौसी की बड़ी गांड मेरे सामने आ गयी। मैन कहा अब कैमरा के तरफ देखो। फिर मैंने बहुत सारे पिक्स लिए। मौसी पिक्स देख कर खुश थी। मैंने बोला था न मौसी तुम्हारे सामने एक्ट्रेस भी फैल है। वो हँसने लगी।
    मौसी अब यह पहनो, और हम क्लिक करते है। मौसी वो देख कर बोली यह तोह कुछ ज्यादा ही छोटा है। try करो न मौसी मस्त आएगा pics, अच्छा बाहर जा चेंज करने दे। मैं बाहर आ गया, कुछ देर बाद मौसी ने दरवाजा खोला, मैं अंदर गया तोह मौसी को देख कर मेरा मुह खुला का खुला रह गया, निक्कर मौसी के जांघ में चिपक गया था, एकदम टाइट लग रहा था, मानो मौसी ने हॉट पैंट पहन रखा हो, और उनकोने बनयान नही डाला था। मैंने पूछा आपने टॉप क्यों पहना है, बनयान डाल लो, इसपर वो सेक्सी लगेगा। मौसी बोली, नही यह ही ठीक है, तुम क्लिक करो। मैं क्लीक क्या करता, मेरे मन मे गुदगुदी हो रही थी, और मेरा लंड किसी भी वक़्त विय की बिस्फोट कर सकता था। ऐसा थस मेरी विधि मौसी का जिस्म, मुझेउनके गांड को छूने का मन हो रहा था, उनका गांड एकदम गोल बाहर के तरफ निकला हुआ था। मैंने कहा मैसी आपके पेडचे धूल लगा है, यह बोल कर में उनके गांड पेर हाथ मारने लगा। साफ करने के दरमियस में अछे से उनकी गांड को दबा दे रहा था, विधि मौसी बोल पड़ी हो गया अब क्लिक कर।
    मैन बहुत सारे पिक्स लिए अलग अलग पोज़ में, मैन फिर एक बार मौसी से कहा, मौसी यह बनयान अचस लगेगा पेहेन लो। वो बोल पड़ी, नही इस मे अंदर कुछ पहना पड़ेगा। मैंने बोला आपने तोह पहना होगा न, मौसी बोली, बदमास, वो काफी नही।
    अरे मौसी पेहेन लो न, कौन है यहाँ।
    तू नही समझेगा, कोई पिछ देखेगा तोह क्या बोलेगा।
    तुम डरो मत मौसी, कोई नही देखेगा, में delete कर दूंगा, chip में डाल कर।
    ठीक है घूम जा, में चेंज करती हूं।
    मैं पीछे पलट कर अपना तना हुआ लंड सहलाने लगा।
    मौसी ने कहा, अब क्लिक कर।
    अब जो में देखने वाला था उसका अंदाजा नही था मुझे, मौसी ने टॉप की तरह ही बनयान को पररचय ब्रा में बांध रखा था, लेकिन इस बार उनका sky blue color का ब्रा clear दिख रहा था। ब्रा छोटे कप का होने के कारण उनका लंबा cleavage clear दिख रहा था।
    It was haven on earth, long cleavage, open belly with button size belly botton, चौड़ी गांड, मसल थइ, smooth white skin, she was looking like a porn star यह सब देख कर मेरे मोह से wow निकल गया।
    विधि मौसी blush कर रही थी, जल्दी लो pics कोई आ जायेगा। मैंने बहुत सारे पिक्स लिए, मुझे cleavage मदहोश कर रहे थे। मैंने कहा मौसी आगे झुको, और स्माइल दो। जैसे ही झुकी मैन बर्स्ट मोड में सेट कर के bahut सारे pics ले लिए। इतना डीप cleaveage देख कर मेरा लंड झाड़ गया। और मेरा लोअर गिला हो गया।
    विधि मौसी ने pics देखा फिर चेंज करने लगी।

    विधि मौसी ने pics देखे तोह सर्मा गयी, बोलै यह पिक्स डिलीट करो, जिसमे डीप cleavages थी। मैंने कहा नही, कितना मस्त है।
    मौसी ने कहा, यह पिक्स क्या करोगे तुम badmass, मैंने कहा, में रखूंगा अपने पास। मौसी ने हस्र हुए मेरे सर पर मारा और चली गयी।
    मेरे निक्कर में मौसी की चूत की खुसबू आ गयी थी, क्योंकि निकर टाइट होने के कारण वो चूत से सटा हुआ था, और गिला हो गया था, मौसी क्लिक करवाते वक़्त उतेजीत थी, सैयद इसी लिए वो निकर भी पहन ली मेरे कहने पर। मैन आज जितना देखा था, उसके बाद आज रात में वो निकर अपने मुह पर ले कर सोया, मौसी की चूत की खुसबू मेरे लंड का साइज बढ़ा रहा था। मेरा मन अब मौसी को chodna चाहता था, मेरा लैंड अब मौसी को देखते ही खड़ा हो जाता था।
    पर मौसी मुझे बच्चा समझ रही थी।

    मौसी की शादी जिस दरोगा से हो रही थी, वो देखने मे average था, मौसी विरोध नही कर सकती थी, क्योंकि वो परेशान थी लड़को से।
    विधि मौसी ने मुझे कहा था, की दुर्गापूजा के मेले में कुछ लड़कों ने उनके साथ छेड़खानी की थी, तभी मामा से लड़ाई हुई थी।
    मैंने पूछा मौसी क्या हुआ था वताओ,
    अर्रे जब मैं देखने गयी थी तोह मेरी दोस्त थी साथ मे, गाँव के कुछ लड़कों ने भीड़ में हम दोनों के साथ गंदी हरकते की थी, मैन पूछ लिया। क्या किया था। मेरे आगे पूछे आकर टच कर रहे थे। और हमे कोने में धक्का देखर ले जा रहे थे में डर गई थी, तभी भैया के एक दोस्त ने देख लिया, और भैया को बुला लिया, करीब आधे घंटे तक वो हिमे परेसान करते रहे।
    मेरा लंड फिर से तन गया। मैं पूछ भी नही सख्त था मौसी से, आधे घंटे तक क्या किया।
    वो दर के मारे रो राहु थी, तभी से वो कभी अकेले मेला नही गयी।
    मौसी के शादि तक मैं मौके के तलाश में ही रहा कि कभी मौका मिल जाये, मौसी की जिस्म देखने का, या उसको chodne का।
    लेकिन सारा plan फैल हो गया।
    उसकी शादी हो गयी, और अब उनका एक चार साल का लड़का है, मामा के शादी में उनका लड़का छोटा था 2 साल का होगा करिबन।
     
Loading...

Share This Page