मेरे सुसु के पानी से दीदी

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Jan 9, 2018.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    136,908
    Likes Received:
    2,133
    http://raredesi.com मेरा नाम सुजीत हे antarvasna मे पुणे का रहने वाला हूँ | मेरे पापा आर्मी मे नौकरी करते हे. मेरे परिवार मे पुरे पाच लोग है यानी मे, मेरे दो बडी बहने और मेरे मम्मी पापा. मेरा सच्ची अनुभव आप लोगोसे शेयर करने से पहले में आपको मेरी परिवार के बारे मे कुछ बाते बताना चाहुगा |

    मेरी बड़ी बहन अंजलि दीदी की उम्र अभी २० साल और नीता दीदी की उम्र अभी 18 साल हो चुकी हे. मेरे मम्मी की उम्र अभी 39 साल है और पापा की 41 साल हे. मेरा, मेरी मम्मी का और मेरे बहनों का शरीर गोरा है | मेरे पापा थोड़े सावले हे. मेरे मम्मी और बहनों के फिगर के बारे मे में नहीं बता सकता क्यूँ की मुझे खुदकोभी नहीं पता के उनकी फिगर का साइज़ क्या हे.

    मेरे मम्मी पापा ने लव मेरिज की थी. दुसरे कास्ट होने के कारन मेरे दादाजी ने पापा को घर से निकल दिया और नानाजी ने मम्मी से रिश्ता तोड़ दिया. मेरे दादाजी का पोलिटिकल बैकग्राउंड है. उन्होंने ये शादी रोखने की बहुत कोशिश की पर नहीं रोख पाए. दादाजी ने परिवार वालोसे साफ कह दिया के जो भी मेरे पापा के साथ रिश्ता रखेगा या उनसे मिलने की कोशिश करेगा उससे दादाजी रिश्ता तोड़ देंगे. बहुत साल पहले जब अंजलि दीदी का जनम हुवा था तब पापा की बड़ी बहन (कमला बुआ) पापा से मिलने आईथी. जब ये बात दादाजी को पता चली उन्होंने कमला बुवा से बात करना छोड़ दिया. हमारे कोई भी रिश्तेदार हमसे मिलने नहीं आते, इसलिए हम पाच लोग एक दुसरे के बहुत करीब हे.
    हम एक दुसरे से बहुत प्यार, आदर करते और खयाल रखते है |

    में घरमें सबसे छोटा हु, इसलिए सभी मुझसे बहुत प्यार करते हे. मेरे पापा की नौकरी कुछ ऐसी है की उनका हर एक दो साल में ट्रांसफर हो जाता हे. मेरे पापा की ट्रांसफर जहा होती वहा हमें पापा के साथ जाना पड़ता. में और मेरी बहने आर्मी स्कूल में पड़ते हे. मुझे बचपनसे शरीर आर्मी का समस्या रहा है , जब मुझे बहुत पसीना आता है और जब वो सुख जाता है तब मेरे शरीर पर फुके पड़ते है और मुझे बहुत खुजली भी होती हे. डॉक्टर ने मेरे मम्मी से कहा है की मुझे रोज़ तीन बार नहाना पड़ेगा और शरीर पर जहा जहा खुजली होती है वहा पर दवा लगनी पड़ेगी. मेरी मम्मी मुझे रोज़ तीन बार नहलाती थी और बाद में क्रीम भी लगाती थी. जब मम्मी घर कमोमे बहुत बिजी रहती है तब मेरी बहन अंजलि दीदी और कभी कभी नीता दीदी मुझे नहलाती है और क्रीम लगाया करती हे. बचपनमें में जब घर पर होता था तब मेरी मम्मी मुझे कपडे नहीं पहनती थी क्यूँ की पसीने से शायद मुझे इन्फेक्शन होजाए इससे वो डरती थी. मुझे अब घरमे नंगा घुमने की आदत पड़ चुकी है और घरवालो को मुझे नंगा देखने की आदत पड़ चुकी थी |

    हमारा घर 1BHK का हे. मेरे मम्मी पापा एक कमरे में सोते है और हम भाई बहनों को दुसरे कमरे में सोना पड़ता. बचपनमे में जब जल्दी सोजाता था तब मम्मी मुझे बहनों वाले कमरेमे सुलाती थी पर जब में देरसे सोता था तब में मम्मी पापा के पास सोता था. मेरे मम्मी पापा सोते समय पुरे कपडे उतर कर सोते हे, मुझे लगता था मम्मी ने मुझे दूध पिलाने के लिए कपडे उतर दिये ये सोच कर में मम्मी का बूब्स मुहमे लेकर चूसते चूसते सोजाता और पापा मम्मी के पीछे साइड से मम्मी को चोदते चोदते नंगे सोजाते. जब मम्मी मुझे सुबह नहलाती थी तब वो भी आपने पुरे कपडे उतर कर नहाथी थी, तब में मम्मी से उनका बूब्स चुसके दूध पिने के लिए जिध करता था तब मम्मी मुझे कहती थी अभी नहीं बेटा रात को पिलेना. एक दिन नहाथे समय मेने मम्मी से पूछ लिया के उनके बगलमे और चूत पर इतने बाल क्यूँ है ? तब मम्मी ने मुझे कहा की यहा पे जंगली जानवरो के रहने की गुफा (चूत) हे. तब में जंगली जानवरो से बहुत डरता था. ये कह कर मम्मी मुझे कहती थी के क्या तुमे जंगली जानवरो को देखना है ? तब में डर जाता था और आखे बंद करके चुप चाप नाहा लेता था. जब भी में कोई जिध करता था या खाना नहीं खाता था तब मम्मी मुझे जंगली जानवरो का डर दिखाया करती थी. मेने बचपन से लेकर अभी तक कभी भी अंडर वियर नहीं पहनी हे. में रात को बिस्तर पर सुसु किया करता था, इसलिए मम्मी मुझे सोने से पहले सुसु करवाती थी अगर में बिना सुसु करके सोगया तो मे रात को बिस्तर में सुसु करता था.
    तब मम्मी मुझे निंद से जगाती थी और मेरी नुन्नी पकड़कर मुझे सुसु करवाती थी.


    मेरे पापा बहुत चुदाई करते है | वो दिनमें कमसे कम एक बार मम्मी को चोदे बिना नहीं रह सकते थे. मेरे पापा की बुरी आदत कहो या आछी आदत कहो, मेरे पापा मम्मी को बंद कमरेमे चोदना पसंद नहीं करते थे. पापा मम्मी को दुसरो के सामने चोदना पसंद करते हे. पर बहरवालो के सामने मम्मी को चोदना आसान नहीं था, इससे परिवार की इज़त चले जाती.

    तो जब हम भाई बहन छोटे थे तब पापा मम्मी को हमारे सामने चोदते. पापा हमेशा लाइट चालू रखके दरवाज़ा खुला छोडके मम्मी को चोदा करते हे. हमने मम्मी पापा को बहुत बार चुदाई करते हमे देता हे. जब हम सोफे पर बैठकर TV पर कार्टून देखते तब पापा मम्मी को सोफे के पीछे चोदते थे. हम तीनो भाई बहन खाना खाने खाने वाला टेबल के ऊपर बैठते थे तब मम्मी पापा के गोद में बेठकर हमें खाना खिलाती थी. पापा ने मम्मी को चोदने के चकर में घरकी एक भी जगा नहीं छोड़ी थी, वो मम्मी को किचन में, बोथ्रूम में, कभी कभी जब हम घरमे खेलते तो हमारे सामने, हमारे कमरेमें, हमारे बेड के उपर चोदते थे. रविवार के दिन पापा को छुटी रहती थी और मेरी बहने सुबह से लेकर शाम तक मम्मी के दोस्त की यहाँ डांस क्लास के लिए जाती थी. जब मेरी बहने घरसे बाहर निकले तबसे वो वापस आने तक मम्मी पापा घरमे पुरे कपडे उतर कर नंगे घूमते.

    रविवार के दिन पापा मम्मी को तीन चार बार मेरे सामने ही चोदते थे. जब में उनसे पूछता था की वो क्या कर रहे है तो मेरी मम्मी कहती के मेरे गुफा (चूत) में जंगली जानवर शोर कर रहे है तो पापा उन्हें चुप करा रहे हे. जंगली जानवरो का नाम सुनके में चुप हो जाता और उनकी तरफ द्यान नहीं देता था.

    अंजलि दीदी अब बड़ी हो रही थी, उसे मम्मी पापा क्या करते है वो समजमें आने लगा था पर वो जानबुचकर ना समाज आने का नाटक करती थी. अंजलि दीदी और नीता दीदी हमेश स्लीवलेस फ्राक और निक्कर पहनती थी. अंजलि दीदी के बूब्स अभी थोड़े बड रहे थे और उनकी चूत कभी कभी गिली हो जाती थी. जब में बहनों के साथ उनके कमरे में सोता तब अंजलि दीदी मुझे बिलगकर सोजाती. में जब उनसे पूछता था तो वो कहती थी के तुम रात में डर जाते हो तो मम्मी ने कहा है तुमसे बिलगकर सोनेको. वो मेरे पुरे नंगे बदन पर उनका हाथ फिराती थी, मेरे छाती पर, मेरे पीठ पर, तो कभी मेरे गांड पर और तो कभी कभी मेरे लंड पर भी वो उनका हाथ फिराती थी. जब में उनसे पूछता तो वो कहती थी के में देख रहि हु के तुम्हारे शरीर पर कही rashes और कही पर खुजली तो नहीं हो रही हे. तब मुझे लगता था के अंजलि दीदी मेरा कितना खयाल रखती हे.

    अंजलि दीदी मुझसे बहुत प्यार करती थी, वो मुझे केक खाने के लिए लाती थी, तो में उनका बहुत आदर करता था, वो मेरे साथ जोभी करे में उनको ना नहीं बोलता था.

    में अभी भी जब सोने से पहले सुसु नहीं करता हु तब में बिस्तर में सुसु कर देता हु. उस दिन मेने सोते समय सुसु नहीं किया था, तो मम्मी ने अंजलि दीदी से कहा की रवि ने सुसु नहीं किया हे, तो जब तुम सोने जावोगी तो उसे जगा देना और बोथ्रूम लेजाकर सुसु करवा देना. ये कह कर मम्मी पापा के साथ सोने चलीगई. में और नीता दीदी सोगये थे और अंजलि दीदी आपना होम वर्क पूरा कर रही थी. अंजलि दीदी आपना होम वर्क पूरा कर के जब सोने जा रही थी तब उन्हें मम्मी की कही बात याद आगई. वो मेरे पास आई तब में चदर वोढ़कर सो रहा था, जेसे ही उन्होंने मेरी चदर हटाई उनका द्यान मेरे छोटे लंड पर गया, मेरा लंड अभी ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था. मेरा छोटा लंड देख उसे पापा के बड़े लंड की याद आई और उसके बारे में सोचते ही उनकी चूत गिली होगई. तो उन्होंने मनमे ठान लिया की जो पापा मम्मी के साथ करते है वो सब कुछ वो मेरे साथ करेंगी.


    अंजलि दीदी को याद आया की पापा उनके हाथ से मम्मी के बूब्स दबाया करते हे, तो अंजलि दीदी ने मेरा हाथ उनके हाथ में लिया और उनके बूब्स के ऊपर रख दिया. अब अंजलि दीदी मेरे हाथ से उनके बूब्स दबाने लगी, जेसे ही अंजलि दीदी ने आपने बूब्स दबाये उनकी चूत गिली होने लगी, उनकी चूत से पानी निकल रहा था उसे उनकी निक्कर गिली होने लगी थी.

    अंजलि दीदी को ये फिलिंग बहुत आछी लगने लगी तो वो और गरम होगई. फिर उन्हें याद आया की पापा उनके हाथ से मम्मी की चूत खुजाते थे. तो अंजलि दीदी ने आपने एक हाथ से फ्राक उपर उठा लिया और आपनी निक्कर की तरफ देखा, उनकी निक्कर गिली हो चुकी थी, उन्होंने मेरा हाथ उठा कर उनके निक्कर पे रख दिया. तब तो वो और गरम होगई, बहुत दिनो के बाद किसी ने उनकी निक्कर को हाथ लगाया था.

    अंजलि दीदी की चूत और भी गिली होगी और बूब्स और टाइट हो गये. अंजलि दीदी उनके एक हाथ से उनके बूब्स दबाने लगी और मेरा एक हाथ पकड़ कर उनके निक्कर पर फिरने लगी. उनकी निक्कर अब पूरी गिली हो चुकी थी और मेरा हाथ भी गिला हो चुका था. फिर वो और जोरसे मेरा हाथ उनकी निक्कर पर फिराने लगी और उनके बूब्स दबाने लगी इससे अंजलि दीदी को बहुत मजा आ रहा था.

    तभी मम्मी पापा के कमरेमे से कुछ आवाजे आने लगी तो अंजलि दीदी डरगई और उन्होंने झटसे मेरा हाथ छोड़ दिया और पीछे हट गई. जब अंजलि दीदी ने वो आवाज गोर से सुनी तो वो आवाजे मम्मी की थी कुछ hmmmmmm asshhhhh yeeeoooo yyyyhhhh येसी आ रही थी. तो अंजलि दीदी जानगई के मम्मी को पापा चोद रहे हे. तो वो खुश होगई क्यूँ की अभ कुछ देर तक मम्मी पापा इस कमरे में नहीं आयेगे, तो अंजलि दीदी फिर से मेरा हाथ पकड़ के आपनी फ्राक ऊपर करके निक्कर पर फिरा रही थी.

    वो जानती थी मम्मी पापा थोड़ी देर तक इस कमरे में नहीं आयेगे तो उनकी हिमत बड चुकी थी, आब वो मेरा हाथ पकड़ कर उनके कमर के ऊपर फिरने लगी, उसके बाद उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर निक्कर के पिछे से डाल दिया. पहली बार किसीका हाथ उनकी नंगी गांड के ऊपर पड़ रहा था वो तो अभी जंनत में थी. वेसेही मेरा हाथ पकड़ कर वो उनके गांड के ऊपर फिरा रही थी.

    पर अंजलि दीदी की निक्कर टाइट होने के कारन मेरा हाथ उनके गांड के ऊपर ठीक से नहीं पहुच पा रहा था. तब अंजलि दीदी ने एक हाथ से फ्राक को ऊपर पकड़ा और दुसरे हाथ से वो निक्कर निकलने लगी. उनकी चूत गुलाबी color की थी और उसपर एक भी बल नहीं था. उन्होंने पूरी निक्कर उतार कर जमीन पर फेकदी. अभी अंजलि दीदी सिर्फ फ्राक में मेरे सामने खडी थी, उधर मम्मी की आवाजे जोर जोर से आरही थी, अंजलि दीदी को लगा अब मम्मी झड़ने वाली है तो उन्होंने जल्दीसे मेरा हाथ पकड़ कर उनके चिकने, थोड़े मोटे पर मुलायम गांड के ऊपर फिरने लगी. अंजलि दीदी को बहुत मजा आ रहा था.


    अंजलि दीदी ने मेरे हाथ के अंगुली उनके दोनों गांड के बिच में डाल दिए और मेरा हाथ थोडा अंदर की और ढकेल दिया. आभी वो आपने गांड से मेरे अंगुली और मेरा हाथ दबा रही थी. अंजलि दीदी ने फिर उनके पैर थोड़े फेलाए और मेरी एक ऊँगली उनके गांड के हाल के उपर फिरा रही थी, अंजलि दीदी अब जंनतमें जा चुकी थी.

    अभी तो वो और गरम हो रही थी, उनके चूत से निकला हुवा पानी उनके जाघों से लेकर उनके घुटनो तक आ पंहुचा था. थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरा हाथ उनकी गांड पर से निकल कर उनकी चूत पर रख दिया. पहली बार दीदी ने किसीका हाथ उनकी गरम चूत पर रख दिया था.

    जैसे ही मेरा हाथ उनके नंगे चूत पर पड़ा वो झड़ने लगी और मेरे हाथ पर पानी छोड़ने लगी, जिंदगीमे पहली बार अंजलि दीदी की चूत पानी छोड़ रही थी, उस समय की उनकी अनुभव कुछ ऐसी थी के दुनियाके सारे सुख एक तरफ और उनका चूत से पानी निकलने का सुख एक तरफ अंजलि दीदी की चूत 15 sec तक पानी छोड़ रही थी.

    उनके चूत का पानी फर्श पर, उनके फ्राक पर और मेरे हाथ पर बिखरा पड़ा था. उनके चूत के पानी की वजहसे में बेड पर लेटे लेटे हलचल करने लगा उस बिच मेरा मुह अंजलि दीदी की तरफ हो गया. तब अंजलि दीदी थोड़ी डर गयी ये सोचके के शायद में जाग चूका हु पर में अभी भी सो रहा था. अंजलि दीदी फ्राक उपर करके चूत का बिखरा हुवा पानी देख रही थी, तभी मेने सोते सोते अंजलि दीदी के उपर सुसु करना चालू कर दिया. अंजलि दीदी पहले तो हडबडाई पर मेरे सुसु के गरम पानी ने उनको फिर से गरम कर दिया. अंजलि दीदी ने मेरा सुसु का पानी उनके चूत पर लेने के लिए उनका फ्राक उपर उठा लिया और एक जगह खड़े होकर वो मेरा सुसु का पानी उनकी चूत पर लेने लगी. जेसे ही मेरा सुसु का पानी उनके गरम चूत पर पड़ा अंजलि दीदी फिर से झड़ने लगी, उसके बाद 30 sec में मेरा सुसु बंद हुवा तब तक दीदी भी झड चुकी थी.

    उधर मम्मी पापा भी झड चुके थे. हमारे घरमे एक ही बोथ्रूम और टॉयलेट हे. बोथ्रूम बिलकुल हमारे रूम के सामने ही है |

    मम्मी पापा को बोथ्रूम जाने के लिए हमारे रूम के सामने से जाना पड़ता. अंजलि दीदी को अब समज में नहीं आ रहा था के जो मेने सुसु किया था |

    अंजलि दीदी का पानी झडा था उसका और उनकी फ्राक गिली हो चुकी थी उसका क्या किया जाये ये सोचते वो एक हाथ में फ्राक को पकडे खडी थी. तभी मम्मी बोथ्रूम जाने के लिए हमारे कमरे के पास आ पहुची. मम्मी पापा से अभी चुदवा कर आ रही थी तो वो पूरी नंगी थी और उनके पेट पर, चूत पे और मुह पर पापा के लंड का पानी था. हमारे कमरे की लाइट चालू देख मम्मी ने हमारे रूम में देखा तो देखते ही वो दंग रहगई क्यूँ की अंजलि दीदी फ्राक उपर करके नंगी खडी थी और मम्मी तो पूरी नंगी थी. तभी अंजलि दीदी ने और मम्मी ने एक दुसरे को देखा |

    आगेकी स्टोरी जाने के लिए प्लीज जादासे जादा कमेंट करे और लिखे करे |
     
Loading...

Share This Page