माँ की चूत- परीक्षण

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Jan 9, 2018.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    136,908
    Likes Received:
    2,133
    http://raredesi.com xxx stories ये कहानी उस समय की है, जब मैं कॉलेज में स्टूडेंट था. मेरी उम्र २० थी और मेरी माँ की ३५ साल. शी वाज ऐ सेक्सी लेडी विथ वैरी गुड अट्रेक्टिव बॉडी फिगर एंड आल्सो फुल ऑफ़ सेक्सुअल डिजायर. आई हेव सीन हर फ्रॉम बाथरूम होल्स बाथिंग न्यूड एंड वन्स हविंग सेक्स विथ माय फादर. फ्रॉम डेट डे, आई हेड ऐ डिजायर टू हेव सेक्स विथ माँ लाइक माय फादर वाज एन्जोयिंग ओन डेट नाईट.
    वन नाईट, माय फादर वाज आउट ऑफ़ स्टेशन एंड आई वाज इन माय बेडरूम. बट, आई कुड नॉट स्लीप. देयरआफ्टर, आई स्टार्ट मास्टरबेटिंग ओन ऐ लॉन्ग राउंड पिल्लो एक्ट लाइक हविंग सेक्स एंड इन मीन टाइम, माय माँ ओपन दा डोर एंड इंटर दा रूम. दरवाजा खुलने के आवाज़ से मैं, घबराकर रुक गया. लेकिन, मैं तकिये के ऊपर था.
    फिर, मैं तकिये के बगल में लेट गया. माँ ने पूछा - क्या कर रहे थे? मैंने कहा - नीद नहीं आ रही है. कुछ बैचेनी सी है. फिर, मैंने माँ से पूछा - क्या तुमको नीद नहीं आ रही है? वो बोली - हाँ मुझे भी नीद नहीं आ रही है. मैंने कहा - कि आज आप यहीं लेट जाईये. फिर, वो मेरे पास ही बैठ गयी. मैंने कहा - सो जाओ, मेरे पास. वो मेरे पास में ही लेट गयी.
    कुछ देर बाद, मैंने पूछा - नीद नहीं आ रही है, तो कहानी पढ़ते है. मैंने पापा की किताब की रेक से एक सेक्सी कहानी की बुक निकाली और कहा - इसको पढ़ते है. माँ बोली - क्या है? मैंने कहा - पढ़ते ने बहुत मज़ा आएगा. बहुत गुद्गुद्दी भी होती है. मैं आपको पढ़कर सुनाता हु. मैंने कमरे की लाइट को पहले ही कम किया हुआ था. मैंने उनको कहानी पढ़कर सुनाने लगा और उसमे एक लेडी का दुसरे मर्द के साथ सेक्स का किस्सा था, बहुत ही डिटेल में. माँ बोली - ये सब क्या है? मैंने कहा - अलमारी में रखी थी. वो बोली - इसमें बड़ो की गन्दी बातें है. इसको नहीं पढना चाहिए. मैंने कहा - फिर, तुम्हारी और डैड की अलमारी में क्यों रखी है? एकबार पढ़ते है ना. फिर उसको भी मज़ा आने लगा. वो भी एक्साइट होने लगी और बीच-बीच में, अपनी बुर खुजला रही थी. मैंने कहा - गुद्गुद्दी हो रही है ना. मेरे भी इसमें (मैंने अपने लंड की तरफ इशारा करते हुए कहा) बहुत हो रही है. सारे बदन में हो रही है.
    फिर, मैंने कहा कि अब आप पढ़िए. फिर वो पढने लगी और बहुत एक्साइट हो गयी. फिर उसने किताब बंद कर करके रख दी और बिस्तर पर लेट गयी. मैंने पूछा - क्या हुआ? तो वो बोली - बैचेनी हो रही है. कुछ खुजली भी बदन पर हो रही है. मैंने पूछा - पाउडर बदन पर लगाने से आराम मिलेगा. तो वो बोली - ठीक है. पाउडर ही लगा दो. मैं बगल के रूम से पाउडर ले आया और माँ पेट के बल लेट गयी और बोली - कमर पर लगा दो. मैंने देखा, कि उन्होंने ब्लाउज के बटन खोले हुए थे और ब्रा भी खोल दी थी.
    मैं पाउडर कमर पर ब्लाउज के अन्दर हाथ देखकर मलने लगा. अहिस्ता-अहिस्ता पूरी कमर पर मलते हुए, साइड से बूब्स भी मसलने लगा. फिर मैंने साइड से बूब्स पर पाउडर लगाते-लगाते उन्हें दबाने लगा. उसको भी मज़ा आ रहा था. फिर, मैंने कहा - कि सामने घुमो, गर्दन के पास भी लगा देता हु. वो घूमी. उसकी ब्लाउज के बटन खुले हुए थे और उसके बूब्स बाहर नंगे थे. मैंने तुरंत गर्दन और बूब्स पर पाउडर लगाया और उनके बूब्स को मसलने लगा. वो मुझे कुछ भी नहीं बोल रही थी.
    फिर, मैंने उनके बूब्स को मसलते हुए अपने हाथ से बूब्स के नीचे मसलना शुरू किया और फिर उनके नेवल को सहलाते हुए, उनके पेटीकोट का नाडा खोल दिया. फिर, मैंने उनकी जांघो को सहलाना शुरू कर दिया और उनकी जांघो और बुर पर भी पाउडर लगते हुए, सहलाना शुरू कर दिया. वो बोली - ये क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा - ठीक से लगा देता हु. नीद भी अच्छी आएगी. फिर मैंने अपने हाथ उसके गोल-गोल चुतड पर फेरने शुरू कर दिए. बड़ा ही मज़ा आ रहा था.
    मैंने पूछा - मज़ा आ रहा है, क्या? आराम मिल रहा है क्या? मैं उनके चुतड पर हाथ फेरते-फेरते उनके ऊपर चढ़ गया और बोला अब बान भी दब जायेगा, पहिर मैंने कमर के नीचे से बूब्स पकड़कर जोर-जोर से दबाने चालू कर दिए. वो पूरी तरह से तड़प रही थी. मैंने कहा - अब किताब वाला दीं करते है. मेरे बदन में जोर-जोर से गुद्गुद्दी हो रही है. पर वो अचानक बोली - ये क्या कर रहे हो?
    मैंने दरवाजा बंद कर दिया है. किसी को पता नहीं चलेगा. मैं किसी से कुछ नहीं कहूँगा. तुम्हारी कसम और मज़ा भी आ जायेगा. प्लीज मना मत करो. मैंने फिर से उनको कहा - कहानी की तरह मज़ा करते है. मैंने अपना पायजामा खोल दिया और उनकी जांघो पर जा बैठा. उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया और मेरे लंड पर अपना हाथ फेरने लगी और बोली - प्रॉमिस करो, कि तुम ये बात किसी से नहीं कहोगे. मैंने कहा - प्रॉमिस और फिर उन्होंने अपने बदन से अपने सारे कपडे अलग कर दिए. मैंने कहा - आप जैसे बोलोगी, मैं वैसे ही करूँगा. उन्होंने कहा - वैसे ही करते जाओ, जैसे की कहानी में पढ़ा था.
    मैंने उनके बूब्स को चुसना शुरू किया और दबा भी रहा था. वो भी मेरे लंड पर हाथ फेर रही थी. मैं अपनी एक ऊँगली से उनकी बुर को दबाने लगा और फिर ऊँगली को उनकी बुर मे डाल दिया. उनके मुह से अहह्हहहः हहहहः की आवाज़े निकलने लगी. फिर, मैंने उनसे किताब की तरह डौगी स्टाइल में आने को कहा और अपने लंड को पीछे से उनकी बुर के छेद पर ले जाकर रगड़ने लगा. वो दोनों हाथो से अपने बूब्स को दबा रही थी. फनटासटिक, बड़ा मज़ा आ रहा था, अचानक से लंड फिसला और झटके के साथ बुर में घुस गया. क्युकि उनकी बुर का छेद चुद्वाते-चुद्वाते कुछ बड़ा हो गया था.
    उनके मुह से भी और मेरे मुह से भी जोर की आआआआआआआआ अहहः अश्श्श्श की आवाज़ निकलने लगी. मैंने अब धक्का लगाना शुरू किया. धीरे-धीरे स्पीड भी बढ़ा रहा था. क्या मज़ा आ रहा. वो बोली - और जोर से, और जोर से. मैंने बूब्स को जोर से दबाकर उनकी गोलियों को खीचा इर धक्का लगाने लगा. सिसिसिसिसी ऊऊऊओ .और जोर से . सुपर्ब . क्या बात है. और जोर से धक्के मारो . क्या बात है ..
    फिर, अपना अपना लंड बाहर निकाला और वो बेड पर लेट गयी और मैं धीरे-धीरे उनके बदन पर हाथ फेर रहा था और उनकी बुर के पॉइंट पर ऊँगली से सहलाने लगा. ये उनका जीस्पॉट था. वो बहुत जोर से चिल्लाई आआआआआअ स्श्शश्श्स ..ऊऊऊ. मैंने अब अपने लंड को उनके बदन पर उनके बूब्स पर रगड़ना शुरू किया और ऊपर से नीचे की तरफ करने लगा. फिर उन्होंने, मेरा मुह अपने मुह के पास लाकर जोर से किस किया. मैं भी जोर-जोर से किस करने लगा और अपनी जीभ भी उनके मुह पर फिराने लगा. चूसने में मज़ा आ रहा था.

    वो साथ-साथ में, मेरे लंड को एक हाथ से जोर-जोर से सहला रही थी. मैं भी बोला - बहुत मज़ा दे रही हो. फिर उन्होंने मेरे को जोर से अपनी तरफ खीचकर बाहों में जकड लिया, मैंने भी उनको भीच दिया और उनके बूब्स मेरे बूब्स से आकर चिपककर दब रहे थे. उस रगड़ में बड़ा मज़ा आ रहा था. फिर उन्होंने अपनी जांघे फैलाई और कहा - अब जल्दी जोर से यहाँ ले आओ और मैंने अपने लंड को उनकी बुर में घुसा दिया और धीरे-धीरे हिलाने लगा. फिर वो बोली - अहहहः ऐसे नहीं चलेगा. जोर-जोर से झटके लगाओ और मैंने जोर से धक्के लगाना शुरू कर दिया. क्या मस्त चुदाई का आनंद आ रहा था. वो भी मज़ा ले रही थी अहहहहः हहहहः ऊऊऊऊ और जोर से लगाओ. अहहहः .क्या बात है .वह्ह्ह्हह्ह्ह .और जोर से . बहुत मज़ा आ रहा था. मैं पूरी ताकत से जोर के धक्के लगा रहा था.
    चुदाई पूरी स्पीड पर थी और मैं अब झड़ने वाला था. मेरा रस उनकी बुर में ही निकल गया और मैं शांत होकर उनके नंगे बदन पर पर लेट गया. मुझे उनके गुदगुदे बदन पर नीद आ गयी. फिर, वो बोली - चलो हटो, बहुत देर हो गयी है. अब सोते है. वो अपने कपडे ठीक करने लगी. फिर, वो बोली - ये राज ही रखना और कभी किसी से मत कहना. मैंने प्रॉमिस किया और उनके बूब्स को दबाकर एक जोर से किस कर दिया. मैंने आँख मारते हुआ और मुस्कुराते हुआ कहा - फिर कब गुद्गुद्दी होगी? वो भी मेरे साथ हंसने लगी. बोली - बदमाश हो गये हो. चलो सो जाओ और वो भी अपने कमरे में सोने चली गयी.
     
Loading...

Share This Page