Best Indian Porn Sites

प्लेबॉय बनने के फायदे और घाटे मालूम हुए - 1

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Mar 1, 2018.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    139,019
    Likes Received:
    2,215
    http://raredesi.com प्लेबॉय बनने के फायदे और घाटे मालूम हुए - 1

    Playboy banne ke fayde aur ghaate malum hue 1:

    hindi sex stories, blowjob sex kahani

    दोस्तों, मेरा नाम समीर है और मैं हरयाणा का रहने वाला हूँ | मेरी हाइट 6 फुट है और रंग गोरा है | मैं शुरुआत से ही जिम करता आ रहा हूँ इसीलिए मेरी बॉडी फिट है और सिक्स पैक एब्स हैं | दोस्तों मैं Free Hindi Sex Stories पर रोज कहानियां पढ़ता हूँ और आज मैंने सोचा की क्यूँ न मैं भी अपनी आपबीती सुनाऊं | चलिए दोस्तों, अब मैं कहानी पर आता हूँ |

    loading...

    ये बात अभी कुछ महीनों पहले की ही है जब मेरे पास पैसों की बहुत कमी चल रही थी | मुझे पढा लिखा होने के बावजूद नौकरी नही मिल रही थी और इस वजह से मैं बहुत परेशान था | इसी बीच मेरे बचपन का एक दोस्त जिसका नाम सुधीर है, वो गाँव आया | मैं जब उससे मिला तो उसके ठाठ बाट देख कर दंग रह गया | दोस्तों, वो मुझसे भी कम हाइट का था और बॉडी भी बस ठीक ही थी | पढाई में तो वो मुझसे भी पीछे था | वो अभी 6 महीने पहले ही दिल्ली गया था कमाने लेकिन जब वो आया तो उसके पास महंगा फोन, महंगे कपडे और यहाँ तक की एक अच्छी कार भी थी | मैंने सोचा की इसकी ऐसी कौन सी नकरी लग गयी जिसमे इतना पैसा मिलने लगा | मैंने उससे अकेले में बात की | पहले तो वो काफी देर तक टालता रहा लेकिन जब मैंने अपनी प्रोब्लेम्स डिटेल में बताई तो वो मेरी मज़बूरी समझ गया और बोला की जो काम वो करता है, वो थोडा रिस्की है और उसमे ज़मीर को साइड में रखना पड़ता है | मैंने बोला किसी का बुरा तो नही करना है न कुछ ? वो बोला नही |

    मेरी हालत ऐसी थी उन दिनों की मैं पैसे कमाने के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार था | मैंने बोला भाई अगर किसी का बुरा नही कर रहा हूँ तो मुझे ज़मीर को साइड में रखने में कोई दिक्कत नही है | वो बोला ठीक है | फिर उसने मेरे साथ खेतों की तरफ चलने को कहा घुमने के लिए | मैं चल पड़ा | एक थोड़ी सी सुनसान जगह पर जाकर वो बोला की की चल मूतते हैं | मैंने बोला भाई मुझे लगी नही है अभी | वो बोला साथ में मूत भी नही सकता क्या अब ? मैंने बोला ऐसा नही है भाई | फिर मैंने पैंट की चैन खोली और लंड निकाल कर मुतने लगा | वो मेरे बिलकुल पास आकर मुतने लगा | उसने मेरा लौड़ा देखा और बोला की तू तो मेरा धंधा भी चौपट कर सकता है | मैंने बोला मतलब ? बोला ये जो तेरा औजार है न, यही तेरी कमाई करवाएगा और तेरा तो मेरे वाले से भी बडा है इसीलिए और अच्छा कर सकता है | मैं अपने लंड की तारीफ सुन कर खुश भी था लेकिन ये सोच कर की मुझे ऐसा काम करना पडेगा, दुखी भी हो गया | सुधीर बोला भाई जब पैसे हों तो दुनिया ये नही पूछती की काम क्या करते हो | फिर सब यही देखते हैं की क्या जलवे झाड रहे हो | मैंने बोला हाँ भाई, बात तो सही कह रहा है तू | अब मैंने ओनी लाचारी के बारे में सोचा और फैसला किया की मुझे पैसे तो कमाने ही हैं और मैं किसी का कुछ बुरा भी नही कर रहा, किसी से कोई जबरदस्ती नही कर रहा तो फिर क्या हर्ज है | मैंने सुधीर से हाँ कर दी और बोला की भाई बता कब चलना है | वो बोला 2 दिन में | तब तक तू अपनी झांट को साफ़ कर ले | मैंने बोला ठीक है अभी और फिर मैं अपने घर आ गया |

    मैं अब फैसला ले चूका था जाने का इसीलिए मुझे कोई दुःख नही था | घर पहुच कर मैंने अपने कपडे उतारे और शेव करने वाली मशीन लेकर बाथरूम में चला गया | मैंने अपनी झाटों को अच्छे से साफ़ किया | फिर अपनी दाढ़ी भी सही की और नहाने लगा | 2 दिन बाद मैंने अपना बैग रेडी किया और सुधीर के साथ उसकी कार में बैठकर उसके साथ चल दिया | सफ़र के बाद हम दोनों उसके कमरे पर पहुँच चुके थे | अब थोडा आराम किया हम दोनों ने और उसके बाद सुधीर ने रेडी होने को बोला | रेडी होने के बाद हम दोनों उसके एजेंट के पास गये | उसका एजेंट लगभग 40 साल का एक आदमी था | सुधीर ने उससे मेरा परिचय करवाया | एजेंट तो मुझे देखकर खुश हो गया | एजेंट ने मुझसे बोला की चलो कमरे में फोटोग्राफी करनी पड़ेगी | मैंने सुधीर को पहले बता रखा था मेरा असली नाम न बताने को | मैंने एजेंट को भी अपना नाम डेविड बताया और बताया की मैं मुंबई से हूँ | मेरे बोलने का अंदाज भी ठेठ हरयाणवी नही था इसीलिए कोई आसानी से नही पहचान सकता था | अब मैं और एजेंट उसेक कमरे में गये और उसने बोला डेविड, शॉट के लिए रेडी हो जाओ | मैं रेडी हो गया | पहले तो एजेंट ने कुछ फोटो कपड़ों के साथ खिंची फिर मुझे शर्ट निकाल कर एब्स दिखाने को बोला | मैंने शर्ट निकाल दी | अब उसने फिर अलग अलग पोज़ में मेरी फोटो खिंची फिर उसने मुझे पैंट भी निकालने को बोला | अब मुझे थोडा अच्छा नही लग रहा था लेकिन सुधीर ने कान में समझाया की काम के लिए ये सब जरूरी है और तेरा असली नाम नही बल्कि इन फोटोज के सह डेविड नाम ही जाएगा | अब मैं मान गया और अपनी पैंट और अंडरवियर उतार दी |

    एजेंट मेरा लंड देखकर खुश हो गया और बोला की काश ऐसा लंड उसके पास होता | फिर उसने बोला की मेरी छाती पर बाल हैं और उन्हें हटवाना पडेगा | दर्द झेलना मुझे बिलकुल अच्छा नही लगता लेकिन मेरे पास कोई आप्शन नही था | अब दो लड़कियां आयीं और मेरे सीने पर वैक्स करने लगी | दर्द के मारे मेरा लंड किशमिश बन कर दुबक गया | अब मेरी छाती एकदम चिकनी दिख रही थी और मेरे एब्स भी अच्छे से दिख रहे थे | एजेंट ने बोला की फोटोशूट करना है और लंड बैठा हुआ है, कैसे काम चलेगा | उसने फिर से उन्ही दोनों लड़कियों को बुलाया | मुझे थोड़ी शर्म आने लगी क्यूंकि मैं नंगा खड़ा था | एजेंट बोला शर्मो मत, ये दोनों मेरे धंधे की ही लड़कियां हैं | एजेंट ने उन दोनों से बोला की जल्दी से मेरा लंड खड़ा कर दें क्यूंकि उसे मेरी फोटो खींचनी है | अब उन दोनों ने मुझे बेड पर लिटा दिया और एक मेरे मुंह के अपने बूब्स देने लगी तो दूसरी मेरे लंड को सहलाने लगी | मुझे जोश आने लगा लेकिन वैक्सिंग की वजह से अभी भी दर्द हो रहा था इसीलिए मेरा लंड पूरा खड़ा नही हुआ था अभी | अब दूसरी लड़की ने मेरे लंड के टोपे पर किस करना शुरू कर दिया |

    दोस्तों मैंने लड़कियां तो चोदी थीं पहली भी लेकिन किसी से लौड़ा नही चुस्वाया था मैंने | ये अनुभव मेरे लिए नया था | मुझे जोश आने लगा | अब वो मेरे लंड को अपने मुंह में पूरा ले रही थी | मेरा लंड धीरे धीरे बडा होने लगा | वो मेरे अण्डों को भी सहला रही थी बीच बीच में | अब पहली वाली लड़की भी निचे पहुँच गयी और उसने अब मेरे टट्टो को चुसना शुरू कर दिया | अब नजारा ये था की एक लड़की मेरे लंड को चूस रही थी और दूसरी मेरे टट्टे को | मेरा लंड अब पुरे फॉर्म में आने लगा था | दोनों के थोड़ी देर तक ऐसे ही करने के बाद मेरा लंड पूरी तरह खड़ा हो गया था | जब मेरा लौड़ा खड़ा हो गया तो उन्होंने एजेंट को बुला दिया | एजेंट आया और उसने अलग अलग पोज़ बता कर उन पोज़ में खडा होने को बोला और फिर मेरी फोटो ली |

    फोटो लेने के बाद उसने पास में खड़ी उन 2 लड़कियों से मजाक में पूछा की उन्हें और लंड चुसना है क्या मेरा ? वो दोनों मुस्कुरा दी | एजेंट ने बोला जाओ चूस लो, ले लो मजे फ्रेश माल के | अब वो दोनों फिर से मेरे पास आ गयीं और मेरे लंड और टट्टे को बारी बारी से चूसने लगीं | मुझे मजा आ रहा था और बहुत जोश भी | मैंने अब उन दोनों में से एक का सर पकड़ा और उसके मुंह को चोदना शुरू कर दिया | लगभग 15 मिनट की चुदाई के बाद जब मेरा माल निकलने वाला हुआ तो मैंने उनसे पूछा की पीना है ? वो दोनों बोली हाँ | मैंने उन दोनों के मुंह में बारी बारी से अपना माल निकाल दिया |

    आगे क्या हुआ, इसकी कहानी मैं अगले पार्ट में बताऊंगा |
     
Loading...

Share This Page