न्यू यर मम्मी को चुदाई उपहार

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Jan 9, 2018.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    138,786
    Likes Received:
    2,160
    http://raredesi.com rishton me chudai

    मेरी मम्मी का नाम मोनिका है और मैं अपनी मम्मी के साथ अकेला रहता हु. मेरे पापा अम्रेरिका में जॉब करते है और घर पर साल में एक ही बार आते है. मम्मी बहुत ही मॉडर्न है और हमेशा बन-ठन के ही रहती है. मम्मी बहुत ही सुंदर और सेक्सी है और मम्मी का ड्रेसिंग सेंस भी बहुत सेक्सी है. जयादातर मम्मी सिंगल पीस ड्रेस ही पहनती है. पर घर में ज्यादातर वो योग पेंट्स और टाइट टॉप पहनती है. उनकी सारी ड्रेस बहुत रिवेलिंग होती है और मम्मी का रंग बहुत गोरा है. दुसरे मम्मी के अस्सेस्ट भी कमाल के है. मम्मी की उम्र ३८ साल है, पर उनकी जवानी एकदम २४ साल वाली बड़े-बड़े दूध जैसे गोरे बूब्स जो बिलकुल भी लटके हुए नहीं है जैसी है. उनके बूब्स के निप्पल एकदम तीखे सामने की तरफ निकले हुए है और टॉप से हमेशा दीखते रहते है. ३६ साइज़ के बूब्स है जिनकी क्लीवेज हमेशा दिखती रहती है. फिर मम्मी की कमर बहुत पतली लचकदार है और मम्मी की नाभि बहुत सेक्सी है. मम्मी का टॉप ज्यादातार नाभि के पहले की ख़तम हो जाता है और नाभि हमेशा दिखाई रहती है. मम्मी की टाइट पेंट इतनी लो होती है, किअगर और नीचे हो जाये, तो सब दिखाई दे जाए. उनकी थोड़ी सी पेंटी हमेशा ही बाहर दिखती रहती है और मस्त हॉट लगती है. मम्मी के चुतद बहुत मोटे है और गोल मांस से भरे हुए है. मम्मी की टाइट पेंट चुतड पर चिपकी हुई होती है और गांड की लकीर में फसी हुई होती है और जब वो चलती है, तो चुतड की पूरी शेप नज़र आती है. पतली कमर के नीचे मोटा चुतड कहर ही लगता है. मम्मी की मोटी जांघे मख्खन जैसी है और मम्मी ऊपर से लेकर नीचे तक पूरी सेक्सबम है. देखने में मम्मी पूरी पोर्नस्टार लगती है और मुझे मम्मी मुझे बहुत सेक्सी लगती और जब भी वो नहा रही होती या चेंज कर रही होती, तो चुपके से देखता था. मम्मी को चोदने के बारे में सोचता. अक्सर ही मम्मी अपने फ्रेंड के साथ रात को पार्टीज पर जाती और कभी-कभी अगले दिन ही वापस घर आती थी. ये बात ३१ दिसम्बर की है. मेरे दोस्त ने रात को अपने घर पर न्यू इयर पार्टी रखी और उसके घर पर उस दिन उसके पैरेंट नहीं थे. उस दिन मम्मी को भी किसी पार्टी में जाना था और उन्होंने बहुत से सेक्सी रेड कलर की ओने पीस ड्रेस पहनी हुई थी, जो उनके चुतड पर जाकर ख़तम हो रही थी और उसमे से उनके बूब्स बाहर आ रहे थे. ड्रेस इतनी शोर्ट थी, कि थोडा सा झुक जाए, तो सब दिख जाए. मम्मी ८ बजे पार्टी पर चली गयी और मैं मम्मी के जाने के बाद बाथरूम गया और वहां मम्मी की यूज्ड पेंटी उठकर सूंघने लगा. मैं पेंटी को अपने लंड पर रगड़ रहा था और कुछ देर बाद , उसी पर अपना माल छोड़ दिया. मुझे बहुत मज़ा आया और कुछ देर बाद मेरे दोस्त का फ़ोन आया, तो वो बोला - कि जल्दी आ जा. आज मेरे घर पर कोई भी नहीं है, चूत मारते है आज. मैने उससे पूछा - किस की तो वो कि मैने शहर की सबसे सेक्सी रंडी को बुलाया है. तू आ जा और कुछ कंडोम भी लेटे आना. मैं ये सुनकर बहुत खुश हुए और मेरा तो पहले ही मम्मी को देखकर किसी को चोदने का मन हो रहा था. मै जल्दी से तैयार हुआ और निकल पड़ा और एक केमिस्ट की दूकान से मैने कंडोम और वाईग्रा की टेबलेट्स ले ली और २ टेबलेट्स मैने खा भी ली. फिर मै दोस्त के घर की तरफ निकल पड़ा. रास्ते में बहुत ट्रैफिक था और मुझे बहुत टाइम लग रहा था. दोस्त का फिर से फ़ोन आ गया तो मैने उसे बताया, कि ट्रैफिक बहुत ज्यादा है तो बोला यार .. मैने फॉरप्ले शुरू कर दिया है, तू जल्दी से आजा. ये सुनकर मुझे और भी जोश आ गया और मैने उससे कहा - साले रंडी की फोटो तो भेज. उसने मुझे फोटो सेंड की और जैसे ही मैने फोटो देखी, तो मैं हैरान हो गया. वो रंडी और कोई नहीं.. मेरी मम्मी थी और एक पल के लिए, मैं शोक्ड हो गया और सोचने लगा, कि तो ये मेरी मम्मी का प्रोफेशन. पर बाद में मुझे बहुत ख़ुशी हुई; कि जिन को मैं सालो से चोदना चाहता हु, वो आज चुदेंगी. तो मेने उसे मेसेज किया .. साली रंडी तो बहुत झकास है तू चुदाई शुरू कर, मैं आता हु. अब तो मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था और मैं १५ मिनट बाद उसके घर पहुँच गया और अन्दर चले गया. वो अपने बेडरूम में था और दरवाजा खुला था. मैं सीधे अन्दर चले गया और देखा, कि मम्मी के बूब्स दबा रहा था और मम्मी आहे भर रही थी और उसने अपनी पेंट उतारी और उसका ९ इंच मोटा लंड बाहर आ गया. मम्मी के मुह में पानी आ गया उसके खीरे जैसे लंड को देख कर और मम्मी ने उसका लंड हाथो में पकड़ लिया और मुठ मारने लगी. अम्मी के कोमल हाथो से तो उनका मोटा लंड और भी मोटा हो गया और उसने मम्मी को बालो से पकड़ा और बोला - साली रांड मेरे लंड को और चूस और मम्मी के मुह में घुसा दिया. मम्मी के मुह में उसका पूरा लंड बड़ी मुश्किल से फिट हो रहा था. वो बालो को खीच कर मम्मी का मुह चोदने लगा. वो इतनी तेजी से छोड़ रहा था, कि बहुत आवाज़े आ रही थी चप .. चप . चप और मैं सोचने लगा, अब एंट्री का टाइम हो गया और मैं चुपके से दबे पाँव अन्दर उनके पास चले गया. अपना लंड निकल कर मम्मी के पीछे खड़ा हो गया और मम्मी चूसने में इतनी बीजी थी, कि उन्हें पता हो नहीं चला और १० मिनट बाद एकदम से उसने अपना गाढ़ा वीर्य मम्मी के मुह में छोड़ दिया और अपना लंड बाहर निकल लिया. मम्मी उसके सारे माल को पी गयी और उसका लंड भी चाट कर साफ़ कर दिया. फिर मैने अचानक से मम्मी के बाल पकडे और मुह अपनी तरफ कर दिया और जैसे ही मम्मी ने अपना मुह घुमाया, मैने अपना लौड़ा मम्मी के मुह में ठूस दिया और बाल खीच कर पूरा अन्दर तक ठूस दिया. मेरा लंड मम्मी के तालू से टकरा गया. मम्मी मुझे देखकर घबरा गयी पर मेरा लंड उनके मुह में होने के कारण कुछ बोल नहीं पाई. मैं मम्मी के मुह को बहुत जोर से चोदने लगा और मम्मी के कोमल से मेरा लंड और भी टाइट हो गया. मैं अभी तक डिस्चार्ज नहीं हुआ था, क्युकि मैने वाईग्रा की ओवर डोज खायी हुई थी. १५ मिनट तक मैने मम्मी के बाल पकड़ कर जबरदस्त चोदता रहा. मम्मी सांसे लेने के लिए मेरे लंड को बाहर निकलने की कोशिश करती रही, पर मैने बाहर नहीं निकाला और फिर मैने अपना लौड़ा बाहर निकाला और मम्मी को खड़ा करके पीछे से जकड लिया और बूब्स दबाने लगा. मेरा लौड़ा पीछे से मम्मी की ड्रेस के ऊपर से ही उनके चुतड की लकीर में घुस रहा था और मैं जानवरों की तरह मम्मो को दबा रहा था. मम्मी को दर्द भी होने लगा था और पीछे से लंड रगड़ रहा था. फिर मैने मम्मी की शोर्ट ड्रेस पीछे से थोड़ी सी ऊपर की और मम्मी की ब्लैक पेंटी उतार दी. अपने दोस्त की तरफ फेंक दी और उसने कैच कर ली और सुंगने लगा, अपने लौड़े पर रगड़ने लगा और कुछ देर में उसका लौड़ा खड़ा हो गया. मैने अपना मुह मम्मी के चुतड में घुसा दिया और चुतड चाटने लगा. मम्मी के मोटे चुतड के बीच में मेरा मुह दिख नहीं रहा थ और चुतड की खुशबु बहुत ही सेक्सी थी. मेरा दोस्त अब आया और मम्मी के आगे लेट गया और अपना लंड मम्मी को चुस्वाने लगा और आगे मम्मी उसका लौड़ा चूस रही थी. पीछे से मैं मम्मी के चुतड चाट रहा था. मैं अपनी जीभ चुतड के छेद (एसहोल) में घुसा कर अन्दर-बाहर कर रहा था. मम्मी को बहुत मज़ा आ रहा था और वो जानबूझकर अपनी गांड आगे-पीछे कर रही थी और अब तक ये भूल चुकी थी, कि मेरा बेटामेरे चुतड चूस रहा है. मेरे दोस्त का लौड़ा फिर से टाइट हो गया था और वो बोला - "चल यार, अब चोदते है इसको". उसने अपने लंड पर कंडोम चड़ा लिया और मुझे भी कंडोम पहनने के लिए कहने लगा, पर मैने मना कर दिया और कहा - आज मैं इस रंडी को बिना कंडोम के ही चोदुंगा. फिर वो बोला, कि पहले मैं करू या तू मारेगा. तो मैने कहा - इकठ्ठे मारते है. वो बोला - क्या मतलब? तो मैने कहा - तू चूत मार और मैं इसकी गांड मारता हु. फिर वो बेड पर लेता और मम्मी उसने अपने ऊपर लिटाया और ममी की चूत के ऊपर रख के रगड़ने लगा. फिर उसने एक जोर से झटका मारा तो उसका लंड अन्दर घुस गया और मम्मी चीख पड़ी. उसका लंड मम्मी की चूत में बहुत मुश्किल से फिट आ रहा था. वो बहुत तेजी से चोदने लगा और वो इतनी जोर से झटके मारने लगा, किमम्मी की चूत से पच-पच-पच की आवाज़े आ रही थी. फिर मैने अपना लंड मम्मी की गांड पर रखा और जोर लगाने लगा, लेकिन मेरा लंड उनकी गांड के अन्दर नहीं जा रहा था. फिर मैने अपने दोस्त से सरसों के तेल के लिए पूछा और अलमारी से सरसों का तेल निकाल लाया और अपने लौड़े को सरसों के तेल में डुबोकर चिकना कर लिया और बहुत सारा तेल मम्मी की गांड के छेद पर लगा दिया. फिर मैने दुबारा लौड़ा रखा और जोर लगा और इस बार सिर्फ तोप अन्दर गया. मम्मी की गांड बहुत ही टाइट थी और मम्मी को बहुत दर्द हो रहा था. फिर मैने पूरा जोर लगाकर एक और झटका मारा और बड़ी मुश्किल के बाद अन्दर चला गया और मम्मी चिल्ला उठी "मर गयी .ऊऊऊईईईईइ .. माआआ .. फट गयी". मम्मी के चुतड दर्द के मारे कांपने लगे और मैने अपना लंड बाहर निकाला, तो उसपर थोडा खून लगा हुआ था. मम्मी की गांड से खून निकल गया था. तो मैने रुमाल से खून पौछा और दुबारा लंड घुसा दिया और मम्मी की गांड मारने लगा, २ मिनट बाद मम्मी का दर्द कम हो गया और उसे भी मज़ा आने लगा और मेरा दोस्त भी मम्मी की चूत को बहुत तेज चोदा रहा था. २० मिनट बाद वो डिस्चार्ज हो गया और उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया. उसने कंडोम उतार के बाहर फेक दिया और मुझे कह कर सोने चले गया. क्युकि वो बहुत थक चूका था और दुसरे रूम में जा कर सो गया. फिर मैने सोचा, कि अब तो मैदान मे मैं ही एक शेर हु तो मैने मम्मी के चूतड़ से लौड़ा निकाल और मम्मी को बालो से पकड़ कर अपना लौड़ा चुस्वाया. फिर मैने कहा - "साली रंडी, आज तेरी चूत को ऐसे चोदुंगा, कि दुबारा कोई चोद नहीं पायेगा". मैने मम्मी को घोड़ी बनाया और पीछे से लंड चूत में घुसा दिया और मेरा लौड़ा मेरे दोस्त से भी बड़ा और मोटा था. मैं बहुत तेज चोद रहा था. आधा घंटे तक, मैने मम्मी को ऐसे ही चोदा और फिर मैने डौगी स्टाइल में मम्मी को लेटाया और कुतिया बना कर चोदा. थोड़ी देर बाद, मम्मी को नीचे लेता कर पीछे से चोदा और मम्मी इतनी चुदाई के बाद बहुत थक चुकी थी और २ बार झड़ चुकी थी. तो फिर मैने मम्मी को खड़ा किया और सीधा खड़ा करके चूत मारने लगा. मम्मी की बस हो गयी थू और वो बार-बार गिर रही थी. उनकी चूत ३-४ घंटे से लगातार चुद रही थी. अब तो उनकी चूत से झाग निकलने लगा था और थोड़ी देर मैं ऐसे ही चोदता रहा और फिर अचानक से मेरे माल मम्मी की चूत के अन्दर ही झड़ गया. मेरा इतना वीर्य निकला, कि मम्मी की चूत पूरी भर गयी और बाहर टपकने लगा और अब मम्मी इतनी थक चुकी थी, कि वही नंगी बेड पर सो गयी. मैं भी थककर मम्मी के ऊपर सो गया और सुबह ४ बजे मेरी आँख खुली, तो मैने वैसे ही मम्मी के चूतड़ के ऊपर चढ़कर सोया हुआ था और मेरा लौड़ा दुबारा खड़ा हो गया. तो मैने सोती हुई मम्मी को पेट के बल लेटाकर चूत में लंड घुसा कर चुदाई की और २० मिनट तक चोदा. फिर दुबारा डिस्चार्ज हो गया. तो उस तरह मैने न्यू इयर को मम्मी को अपने दोस्त के घर चोदा और चुदवाया. उसके बाद तो मैने घर पर ही मम्मी को बहुत चूसा और चोदा. मैने मम्मी के मोटे चूतड़ चोद-चोद कर और मोटे कर दिए और चूत बहुत खुली कर दी और लटका दी. अब तो सुबह मम्मी मेरा लंड चूसकर मुझे उठाती है और रात को सोने से पहले गांड जरुर मरवाती है.
     
Loading...

Share This Page