चुदाई से बड़ा और कोई सुख नही - 69

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by 007, Jan 8, 2017.

  1. 007

    007 Administrator Staff Member

    Joined:
    Aug 28, 2013
    Messages:
    132,181
    Likes Received:
    2,128
    http://raredesi.com This story is part 67 of 9 in the series

    मैंने उसके अपने फेस के ऊपर आने को बोला ओर वो आ गयी,,अब मैं एऊसकी चुत को मुंह में भर लिया,,,उसकी चुत एक दम पिंक कलर की थी,,ओर थोड़ी टाइट थी,,मैंने उसको उसकी पीठ से पकड़ा ओर नीचे की तरफ खींच कर उसकी चुत को अपने फेस से दबा दिया ओर पागलों की तरह उसकी चुत को काटने लगा,,,वो उछाल रही थी क्योंकि मैं थोड़ा ज़ोर से काट रही था, एक बार तो वो ज़ोर साए चिल्ला उठी थी,,उसकी चीख बीच में ही दब गयी थी,,शायद भुआ ने उसका मुंह बंद कर दिया होगा,,फिर भुआ मेरे ऊपर से उतार गयी ओर पूजा को भी उतार दिया,, फिर भुआ ने पूजा को बेड पर लेता दिया ओर मुझे उसकी तंगू के बीच में बिता दिया ओर मेरे लंड पे थूक लगा दिया ओर अपने हाथ से पकड़ कर पूजा की चुत पे रख दिया,,मैंने हल्का सा धक्का मारा तो लंड चुत में चला गया ओर पूजा उछाल गयी फिर मैंने लंड पीछे किया ओर धक्का मारा तो लंड पूरा अंदर घुस गया क्या मजा आया लंड के घुसते ही ओह माइ गॉड,,,पूजा की चुत भुआ ओर सरिता आंटी के मुकाबले बहुत टाइट थी मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैंने अपनी ही मुट्ठी में पूरे ज़ोर से अपने लंड को पकड़ा हुआ है ओर मूठ मर रहा हूँ,,,पूअज की चुत कुछ यूँ मेरे लंड पे क़ास्सी हुई थी,,लेकिन इस मजबूत पकड़ में भी मुझे बहुत सॉफ्ट एहसास हो रहा था,मैंने उसकी तंगू को उठाकर अपने स्ल्ौउलडर पे रख लिया ताकि झटके मरने में आसानी हो ,,,,

    मज़ेदार सेक्स कहानियाँ

    September 27, 2015June 5, 2016November 23, 2015May 21, 2016September 19, 2015

    झटके मरते हुए मैं भुआ को किस कर रही था जो मेरे पास ही बैठी हुई थी,ओर भुआ का हाथ पूजा के बूब आपेर था जबकि मेरा एक हाथ पूजा के बूब्स पर ओर दूसरा भुआ के बूब्स पर था मैं दोनों के बूब्स को सहला रहा था,,आहह सस्स्स्सुउउन्न्ञनयययी ऊओररर त्ट्तीएज कककार्र्रूऊओ प्पुउउर्र्रा उउन्नड़दीर्रर द्दल्लूऊ उूुउउम्म्म्मममममम आअहह ऊओररर त्टीज क्कारर्ररूव पफहाआद्द्दद्ड द्डूऊ म्‍म्मीररीि कचहूवतत कककूऊ पूजाकी सिसकियाँ सुन कर मेरा जोश तरफ गया ओर मैंने उसकी टांगों को कसके पकड़ा ओर बढ़ता तेज करदी,,,आअहह आअहह ीसस्सीई हहिईीई ज्ज्ज्ूओर्रर ज्ज्ज्ज्ज्जूऊऊऊररर्र्ररर सस्सीईई पुउउउर्र्रिई स्स्स्पप्पीड़द्ड ससी तभी भुआ ने उसकी सिसकियों की आवाज़ बंद करदी,,भुआ उसके चचरे पर बैठ गयी ओर उसको अपनी चुत चुसवाने लगी ओर मेरे लिप्स में लिप्स डालकर किस करने लगी क्योंकि पूजा के ऊपर बैठ कर भुआ ने अपना फेस मेरी तरफ किया था क्या मजा आ रहा था मेरे को एक साथ दो लेडी को चोदने में,,कुछ देर इसे ही भुआ की किस करते हुए ओर पूजा को चोदने के बाद मैं साइड हो गया ओर भुआ को उठा कर साइड किया फिर पूजा को झुका कर उसके पीछे चला गया,,भुआ को पता चल गया था मैं क्या करने वाला हूँ,,भुआ ने मुझे नज़रे हो नज़रे में मना किया लेकिन मैं नहीं मना,,,मैंने भुआ को उसके फेस की तरफ जाने को बोला ,,भुआ उसके फेस के पास चली गयी ओर अपनी टाँगे खोल कर लेट गयी जिससे भुआ की चुत उसके मुंह के पास आ गयी,,इधर मैंने अपने लंड पे थूक लगाया ओर उसको पूअज की गांड पे रख दिया,,लेकिन पूजा तैयार नहीं थी गांड देने के लिया इसलिए वो हिलना झूलने लगी तभी मैंने उसकी पीठ को कसका पकड़ लिया ओर लंड को गांड पे रखकर झटका मारा वो चीख उठी लेकिन तभी भुआ ने उसका मुंह पकड़ कर अपनी चुत पे दबा लिया ओर उसकी चीख भी दबा कर रही गयी मैंने फिर से लंड को बाहर किया ओर जोरदार धक्का मारा तो मेरा आधे से ज्यादा लंड उसकी गांड में चला गया,,ओर वो हवा में उछाल गयी लेकिन मैं एऊसकी पीठ को नहीं छोडा ओर भुआ ने उसके फेस को,,इसलिए वो चीख नहीं सकी,,मैंने देखा की उसकी गांड से खून निकालने लगा ओर निकलता भी क्यूउ नहीं उसकी गांड थी ही बहुत टाइट,,मुझे तो वो गांड से वर्जिन लग रही थी क्योंकि उसकी गांड बहुत ज्यादा टाइट थी,मुझे बहुत मजा आ रहा था उसकी टाइट गांड मारकर,,मैंने 5 मिनट उसकी गांड मारी उसकी हालत बहुत खराब हो गयी भुआ ने मुझे उसको छोड देने का इशारा किया ओर मैं एलुँद को गांड से बाहर निकल लिया वो जल्दी से एक साइड हो गयी,,मैंने देखा उसकी आँखों में आँसू थे,,तभी भुआ ने खुद की झुका कर अपनी गांड को मेरे आगे कर दिया ओर मैंने लंड को भुआ की गांड में डाल दिया भुआ ने पूजा को उनके पास आने को बोला तो पूजा उनके पास आ गयी,,भुआ ने उसकी टांगे खोल कर अपनी चुत भुआ के फेस के पास करने को बोला ओर वो इसे ही चुत को भुआ के फेस के करीब करके लेट गयी,,वो ऐसा करना नहीं चाहती थी शायद भुआ के डर की वजह से उसने ऐसा किया था भुआ ने उसकी चुत को अपने मुंह के पास किया रो उक्को चूसने ओर चाटने लगी मैं समाज गया की भुआ ऐसा क्यों कर रही थी भुआ चाहती थी की उसको मजा आए ताकि दर्द का एहसास कम हो जाए,,मैंने भुआ की गांड को तेजी से चोदना शुरू किया ओर पूरा लंड अंदर बाहर करते हुए चोदने लगा,,,भुआ भी मस्ती में पागलों की तरह सामने लेती हुई पूजा की चुत को चूसने में लगी हुई थी.अब मुझे पूअज के फेस से लग रहा था की वो मजे में आकर दर्द को थोड़ा भूल गयी थी,,ओर भुआ के सर को अपनी चुत पे दबा रही थी,,,कुछ देर बाद भुआ साइड हो गयी ओर मुझे पूजा के पास कर दिया,,पूजा मुझे पास देख कर डर गयी मैंने लंड को हाथ में पकड़ा ओर पूजा की गांड पे रख तभी पूजा की आँखें बड़ी बड़ी हो गयी शायद डर की वजह से तभी भुआ ने मुझे हल्के से मारा ओर लंड को पकड़ कर चुत पे रख दिया,,मैंने धक्का लगा कर लंड चुत में डाल दिया,,तब पूजा को खुश चैन मिला ,,मैं एफ़िर से पूअज की चुत को तेजी से चोदना शुरू किया ओर पूरी रफ्तार से लंड को अंदर बाहर करने लगा भुआ थोड़ा साइड पर हो गयी ओर अपनी चुत में उंगली करने लगी,,

    चुदाई से बड़ा और कोई सुख नही - Chudai Se Bada Aur Koi Sukh Nahi
     
Loading...

Share This Page